LIC IPO शेयर में करना चाहते है निवेश तो जाने GMP के 10 महत्वपूर्ण बाते नहीं तो हो सकता है आपका भरी नुकसान

दोस्तों आज की इस पोस्ट में हम LIC IPO एलआईसी आईपीओ Gray Market Premium (GMP) के सभी फीचर के बारे में बहुत ही बेहतर ढंग से हिंदी भाषा में बताएंगे LIC IPO GMP कम क्यों है?  IPO में मौजूदा GMP क्या है IPO में GMP की गणना कैसे की जाती है? LIC IPO का लॉट साइज क्या है? इसके बारे में अधिक जानकारी के लिए ध्यान पूर्वक जरूर पढ़ें और जाने……..

Advertisement
Advertisement

What is current GMP in IPO

IPO में मौजूदा GMP क्या है : दोस्तों जब हम ऑडियो के बारे में बताते हैं तो आप लोगों के बहुत सारे कमेंट बेबी आते हैं कि ग्रे मार्केट प्रीमियम के बारे में भी बताएं कुछ लोगों ने कहा कि Gray Market Premium (GMP) होता क्या है इसके बारे में थोड़ा विस्तार से बताइए | ग्रे मार्केट प्रीमियम के साथ दो और चीजें भी जुड़ी हुई है 

Advertisement
GMP-के-10-महत्वपूर्ण-बाते.webp

1- Kostak Rate    2- SS – Subject to Sauda दोस्तों इनके बारे में भी जानेंगे और साथ में ग्रे मार्केट प्रीमियम से जुड़े हुए क्या क्या रिस्क फैक्टर है उनके बारे में बात करेंगे Gray Market Premium (GMP) में अगर हमें पता चलता है कि IPO प्रीमियम का तो उसे सही तरीके से कैसे यूज कर सकते हैं इस सारी बातें किस पोस्ट में लिखकर बताया जाएगा | 

Gray Market Premium (GMP) : दोस्तों ग्रे मार्केट प्रीमियम को समझने के लिए आपको सबसे पहले ग्रे मार्केट को समझना होगा तो एक तरफ होती है white market जो आपको पता ही है कि वह Legal मार्केट है | दोस्तों जैसे – अगर हम स्टॉक मार्केट की stock exchange कोई भी शेयर को खरीदते या बेचते हैं तो वह अलाउड है इसलिए वह लीगल है तो हम उसे white market कहते हैं | Black market अब हम बात करते हैं ब्लैक मार्केट की तो जो illegal है उसे हम ब्लैक मार्केट कहते हैं | 

Advertisement

दोस्तों जैसे कि देखने को मिला कि करोना काल में बहुत सारी मेडिसिन को ब्लैक मार्केट में illegal तरीके से 10 – 10 गुना महंगे रेट पर बेचा जा रहा था | इसी को हम ब्लैक मार्केट कहते हैं  इसके बीच में कुछ एरिया आ जाते हैं जिसे हम ग्रे एरिया कहते हैं यह उन दोनों में से कोई भी नहीं होते हैं उनके लिए कोई अभी कोई रेगुलेशन ही नहीं है बनी है |

दोस्तों ऐसा ही एक उदाहरण है आईपीओ ग्रे मार्केट का जिसके अंदर शेयर की ट्रेडीग होती है लेकिन उनके ऊपर शेयर के रेगुलेशन अप्लाई नहीं होते हैं और वह क्यों नहीं होते हैं सेबी के रेगुलेशन अप्लाई होते हैं जब कोई आईपीओ less हो जाता है | जब तक कोई आईपीओ लिस्ट हुआ ही नहीं है तब तक उसके ऊपर कोई रेगुलेशन बनता ही नहीं क्योंकि वह आन रेगुलेटेड मार्केट है | इसीलिए हम इसे  ग्रे मार्केट कहते हैं |

Gray Market के अंदर IPO में लोग Trade क्यों करते हैं

दोस्तों मान लो कि कोई IPO आया अगर वह कोई फेमस आईपीओ है जैसे- zomato जोमैटो का आईपीओ आया है लोगों को लग रहा है कि यह पापुलर है यह हो सकता है less करें और 50 – 60 % का आराम से कमा सकते हैं | तो काफी लोग कहेंगे कि अगर मान लीजिये 1000 रूपये का शेयर आ रहा है क्यों ना उस पर हम 30 % ₹300 स्ट्रा देके किसी से पहले ही लेकर ब्लॉक कर दे अगर यह 60 % पर लिस्टिंग होता है तो मेरा जो स्ट्रा 30 % है वो मैं कमा लूंगा |

Advertisement

इस वजह से काफी लोग ग्रे मार्केट के अंदर डील करते हैं लेकिन ऑन ऑफिशियल मार्केट है यहां पर जितनी भी ट्रेडिंग होती है वह ओरल्ली होती है इसके कॉन्ट्रैक्ट रिटर्न नहीं होते हैं इस तरह के मार्केट कुछ सिटीज के अंदर उपलब्ध है यहां एक बीच में डीलर होता है डीलर का मेन काम ही होता है वह Buys और seller को मिला सकता है साथ में लोगो को buys और seller को अपने-अपने ट्रांजैक्शन देने कि माँग करता है |

How is GMP calculated in IPO

IPO में GMP की गणना कैसे की जाती है : दोस्तों जो यह आईपीओ ग्रे मार्केट है यह कौन से टाइम में ऑपरेट होती है देखिए जब भी कोई issue आता है यानी कि कोई आईपीओ आता है सबसे पहले उसका issue प्राइस डिक्लेअर हो जाता है और उसके लिस्ट होने तक का 10 से  12 दिन का टाइम पीरियड होता है | इस टाइम पीरियड के अंदर ट्रेडिंग शुरू हो जाती है  यानी कि आईपीओ एप्लीकेशन को भी खरीदा और बेचा जाता है |

Advertisement

issue price —  ₹1000                                                            issue price —  ₹1000

1 lot  —   15 shares                                                              market price — ₹1100 -1000 = ₹100 profit

 seller price ₹300 X 15 =   ₹4500                                                            ₹100 X 15 =  ₹1500

 ₹4500- ₹1000=  ₹3500 best profit                                             ₹1500- ₹1000= ₹500 profit

What is the lot size of LIC IPO

LIC IPO का लॉट साइज क्या है : दोस्तों वैसे तो आप लौटना लेकर आप एक भी शेयर को खरीद सकते हैं अगर आप शेयर मार्केट में इन्वेस्ट करना चाहते हैं तो किसी भी कंपनी के शेयर को एक शेयर को भी खरीद सकते हैं चाहे वह शेयर ₹100 का है या उसे 5000 का है लेकिन जब आपको लोट साइज खरीदना है तो तो आपको एक शेयर नहीं खरीदना पड़ता वहां आपको एक पैकेज शेयर करना पड़ता है उसी पैसे से तो हम लोग lot साइज बोलते हैं |

दोस्तों आपको बता दें कि आप किसी भी कंपनी का lot साइज खरीदेंगे तो आपको अलग-अलग price का मिल सकता है लौट साइज 15000 से 20000 रूपये के बीच में होता है उसमे लगभग 15 से  20 शेयर होते हैं जिसे हम एक lot size कहते हैं |

निष्कर्ष : दोस्तों आज की इस पोस्ट में मैंने IPO और Gray Market Premium (GMP) के बारे में बताया किसी भी शेयर के लोट साइज के बारे में बताया है अगर इस पोस्ट को पढ़कर आप लोगों को कोई भी जानकारी हासिल हुई हो और यह पोस्ट आप लोगों को अच्छा लगा हो तो अपना कीमती राय को कमेंट बॉक्स में लिखकर जरूर दें | धन्यवाद !

Read more…..और जाने…….

Sharing Is Caring:

Leave a Comment