डायबिटीज से आप भी है परेशान तो यह चीजें भूल कर भी न करे मधुमेह में कौन-कौन से लक्षण पाए जाते हैं जाने

Diabetes mellitus: एक मेटाबोलिक रोग है इस रोक की खासियत है कि रक्त में लगातार गुलकोज का उच्च स्तर पर बढ़ना | जो या तो इंसुलिन के कारण होता है या तो प्रतिरोध के कारण होता है गुलकोज के कुछ मेटाबॉलिज्म के लिए इंसुलिन एक महत्वपूर्ण हारमोंस है|

वर्तमान में भारत में 7.7 मधुमेह से ग्रसित लोग हैं

मधुमेह दो प्रकार के होते हैं………

1- डायबिटीज जब होता है जब पाचन ग्रंथियां इंसुलिन कम या नहीं के बराबर बनाती हैं| जिसके कारण हमारे शरीर में इंसुलिन की कमी होती है|

2- दूसरे प्रकार के मधुमेह में पाचन ग्रंथियां इंसुलिन तो बनाती हैं| मगर शरीर की कोशिकाएं उसे असरदार रूप से उपयोग नहीं कर पाती हैं|उसे इंसुलिन प्रतिरोध कहा जाता है|

दोस्तों गर्भकालीन मधुमेह एक ऐसी स्थिति है| जिसमें गर्भावस्था के उपरांत रक्त शर्करा स्तर बढ़ जाता है| और आमतौर पर प्रशुद्धि के बाद वापस समान रुप में आ जाता है|अगर आपको गर्भकालीन मधुमेह हुआ है तो आपको टाइप 2 मधुमेह होने का खतरा होता है| इसलिए आपको गर्भावस्था के बाद भी रक्त शर्करा स्तर का नियमित रूप से जांच कराना बहुत ही आवश्यक होता है|

और भी पढ़े……..Best medicine for asthma and allergies: दमा के लक्षण और अस्थमा और एलर्जी के लिए सबसे अच्छी दवा जाने

मधुमेह में कौन-कौन से लक्षण पाए जाते हैं ?

symptoms of diabetes: दोस्तों अगर आप मधुमेह जैसी बीमारियों से ग्रसित हैं तो हम आज आपको बता दें कि मधुमेह के कौन-कौन से लक्षण पाए जाते हैं|

  • अधिक प्यास लगना
  • बार बार पेशाब लगना
  • बार बार भूख लगना
  • थकान कमजोरी महसूस करना
  • चोट का देरी से भरना
  • और आंखों से धुंधला दिखाई देना
  • वजन का घटना
  • मितली या उल्टी का होना

दोस्तों अगर आपको ऐसा कुछ लक्षण दिखाई देने लगता है| तो आपको मधुमेह की जांच करवानी चाहिए मधुमेह की जांच से आपको पता चल जाएगा| कि आपको मधुमेह हुआ है या नहीं |

और भी पढ़े……..Symptoms of proteinuria kidney disease किडनी रोग व प्रोटीन्यूरिया के संकेत व लक्षण जाने इस घातक रोग से जरूर बचें

what to eat in diabetes डायबिटीज में क्या खाएं?

डायबिटीज एक ऐसी बीमारी है जो शुगर के स्तर को नियंत्रित करने की क्षमता को प्रभावित करती है। इसलिए, डायबिटीज के रोगियों को अपने आहार में जागरूकता बनाए रखने की आवश्यकता होती है। वह खाद्य पदार्थ चुनना चाहिए जो उचित मात्रा में उपजाऊ खाद्य पदार्थों के साथ मधुमेह के स्तर को नियंत्रित करने में मदद कर सकते हैं।

यहां कुछ ऐसे आहार संबंधी सुझाव हैं जो मधुमेह के रोगियों को मदद कर सकते हैं……….

सब्जियां और फल: डायबिटीज में सब्जियां और फल खाने का प्राथमिक आहारिक तत्व होता है। केले, सेब, पपीता, नींबू, गाजर, गोभी, तोरी, टमाटर, पालक, बैंगन, शिमला मिर्च, लौकी, तोंदले आदि का सेवन करें। इनमें फाइबर, विटामिन, और खनिजों की अच्छी मात्रा होती है और शुगर के स्तर को नियंत्रित करने में मदद करती हैं।

पूर्ण अनाज: गेहूं के चोकर, ब्राउन चावल, बाजरा, जौ, राजमा, मूंगफली, रागी आदि |

और भी पढ़े……“What is papillary thyroid cancer and its treatment” पेपिलरी थायराइड कैंसर क्या है और इसका इलाज कैसे करे जाने

medicine should be taken in diabetes डायबिटीज में कौन सी दवा लेनी चाहिए?

डायबिटीज में उचित और सही दवाओं का सेवन करना बहुत महत्वपूर्ण होता है। यह रोग शुगर के स्तर को नियंत्रित करने के लिए उपयुक्त और सही इंसुलिन या औषधि लेने की आवश्यकता पैदा करता है। हालांकि, डायबिटीज के लिए उपयुक्त दवा आपके वैद्यकीय परामर्श और आपकी व्यक्तिगत स्थिति पर निर्भर करेगी।

यहां कुछ प्रमुख औषधियां हैं जो डायबिटीज के रोगियों को दिया जा सकता है……….

इंसुलिन: यह एक प्रमुख दवा है जो डायबिटीज के रोगियों को सुपर्नाटुरल इंसुलिन की पुर्ति करने में मदद करती है। यह अक्सर अंतर्निहित इंसुलिन की कमी वाले व्यक्तियों के लिए उपयुक्त होता है। इंसुलिन की मात्रा और प्रकार आपके रोग के प्रकार और गंभीरता पर निर्भर करेगी। इसलिए, अपने डॉक्टर से सलाह लेना जरूरी है।

मेटफॉर्मिन: यह दवा शरीर में शुगर के स्तर को कम करने में मदद करती है और इंसुलिन के प्रभाव को बढ़ता है |

Follow on Google news

Leave a Comment