हिजाब को कहां-कहां बैन किया गया है जाने सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला कर्नाटक hijab ban news today

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Instagram Group Join Now

कर्नाटक hijab ban news today: दोस्तों मुसलमानी हिजाब को बहुत ही अच्छी तरह से आप लोग जानते हैं| इस हिजाब को बैन करने की बात काफी दिन से चल रही है| हिजाब को कहां-कहां बैन किया गया है सुप्रीम कोर्ट का फैसला आ चुका है| हिजाब को कहां-कहां बैन किया गया है| और आप इसे कहां-कहां पहन सकती हैं| यह फैसला सुप्रीम कोर्ट के दो जजों द्वारा लिया गया है| ज्यादा विस्तार से जानने के लिए नीचे जरूर पढ़े……

कर्नाटक के स्कूल और कॉलेज में हिजाब को बैन रखा जाए या नहीं रखा जाए| तो क्या किया जाए धार्मिक आधार पर आजादी की बात बार-बार कही गई है उसको लेकर क्या फैसला जजों के द्वारा सुनने को मिलता है जाने

और भी पढ़े…..महिलाओं को प्रधानमंत्री फ्री सिलाई मशीन योजना का तुरंत लाभ जल्दी करे आवेदन

हिजाब बैन सुप्रीम कोर्ट 2 जजों का बड़ा फैसला

Hijab ban Supreme Court: हिजाब को लेकर 10 दिन से दलील पेश की जा रही थी| करीब 8 दिन उन लोगों ने दलीलें दी है| जो कर्नाटक हाई कोर्ट के फैसले को चुनौती दी| सुप्रीम कोर्ट में करीब डेढ़ से 2 दिन उन लोगों ने जिन्होंने उसका हिजाब का विरोध किया है उन लोगों ने चुनौती दी है| यानी कि कर्नाटक हाई कोर्ट के फैसले के समर्थन में तो करीबन 8 दिन में विरोध करते हुए| उन्होंने कहा कि देखिए अगर लड़कियां स्कूल कॉलेज में हिजाब पहनकर जाना चाहती हैं| तो उन्हें आप कैसे रोक सकते हैं अनुच्छेद 19, 21 और 25 आर्टिकल हर व्यक्ति की स्वतंत्रता की बात करता है| इन अनुच्छेद के अनुसार वह अपनी इच्छा से कोई भी वस्त्र पहन सकती है| उन्हें कोई नहीं रोक सकता|

कर्नाटक हाई कोर्ट के द्वारा कहा गया था कि यह हिजाब इस्लाम धर्म का अनिवार्य हिस्सा नहीं है| यानी कि हिजाब को पहनना जरूरी नहीं है| उसी फैसलों को लेकर आए हुए हैं लोग सुप्रीम कोर्ट तक और जिस तरह से तुर्की में हिजाब बैन है| उसी तरह से हिजाब को भारत में मैं बैन करने की बात चल रही है| यानी कि यह हिजाब को भारत में बैंड नहीं किया जा रहा है बल्कि यह सिर्फ स्कूल और कॉलेज कुछ ऐसी संस्थाओं में बैन किया जाएगा|

और भी पढ़े….Atal Pension Yojana 2022 : अटल पेंशन योजना क्या है जाने और जल्द करें आवेदन

hijab ban news today

यहां पर इस बात को भी समझना बहुत जरूरी है| देखिए कि यह हिजाब को लेकर पूरा मामला है| क्योंकि बहुत सारे लोग बहुत सारे ऐसे युवा थे जो लोग भगवा गमछा पहन कर स्कूल का रुख करने लगे थे| दोनों तरह से देखा जाए तो एक तरह से टकराव की स्थिति हो गई थी| उन्हीं को किस तरह से रोका जाए इस बात की जानकारी सुप्रीम कोर्ट द्वारा दी जाएगी| अगर आप स्कूल ड्रेस के ऊपर भगवा गमछा लगाकर जाएंगे तो उस पर भी रोक लगाया जा सकता है| सुप्रीम कोर्ट के द्वारा कोई अमीर हो गरीब हो या किसी भी समुदाय का हो स्कूल कॉलेज में सिर्फ स्कूल का ही ड्रेस अनिवार्य रहेगा| या कुछ ऐसी संस्थाएं जहां पर हिजाब और भगवा गमछा को रोका जा सकता है| इन सभी चीजों पर सुप्रीम कोर्ट के द्वारा फैसला आ सकता है|

लोगों द्वारा याचिकाओं में यह भी कहा जा रहा है| कि अनुच्छेद 19, 21 और 25 के आधार पर छात्रों को अपना वस्त्र चुनने का अधिकार दिया जाए|
सुप्रीम कोर्ट के दो जजों द्वारा यह फैसला लिया जाएगा| जिसमें अभजस्टिस गुप्ता जी के द्वारा यह फैसला नामंजूर कर दिया गया है| लोगों द्वारा दी गई दलील और याचिका को अभजस्टिक गुप्ता के द्वारा खारिज कर दिया गया है| उन्होंने यह कहते हैं इस याचिका को खारिज कर दिया है| कि मेरे विचार से इन सभी सवालों का जवाब याचिकाकर्ता के विरुद्ध जाता है मैं अपील खारिज करता हूं| यश गुप्ता ने यह याचिका खारिज कर दी जो कर्नाटक हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ थी|

और भी पढ़े….प्रधान मंत्री मुद्रा योजना लोन का लाभ और मुद्रा लोन कैसे लें जाने पूरी जानकारी

दोनों जजों के फैसला के बीच एक जज ने अपना विचार लोगों के सामने प्रस्तुत कर दिए हैं| आप बात रही दूसरे जज की तो इसके बारे में जहां तक बताया जा रहा है| कि इस याचिका को खारिज करने के बाद इस मामले को आगे बढ़ाने की बात की जा रही है| अगर दो जजों के बीच में इस याचिका को खारिज कर दिया गया है तो यह तीसरे जज को इस याचिका को सौंपा जाएगा| जो याचिका और दलीलों को देखते हुए सही निर्णय को ले सके|

Follow on Google news

Leave a Comment